Thursday, August 25, 2016

श्री कृष्ण जन्मोत्सव पावन पर्व


श्री कृष्ण जन्मोत्सव पावन पर्व पर ....



” घर घर में कान्हा की बंशी बजे , सबकी भव बाधा दूर करे ।
 कहीं न कोई उदास रहे ,      सबके घर आनंद धूम रहे ।”


प्रभु गिरधर गोपाल का गुणगान …..



बालमुकुंद  नंद्लाल  गोपाला ,
हर  लेते  सबका    संतापा ‌।
जिनके घर दधि माखन खाया ,
तिनके घर अति भण्डार  भरा ।
बनके  गौवन  के  रखवाला  ,
मधुबन  भ्रमै     मुरलीवाला  ।
खेल  कूद  बहु  क्रीड़ा  किया ,
सबको निसचर से मुक्त किया ।
ग्वाल बालाओं के  चीर चुराया ,
लोक लाज  उनको समझाया ।
खुद अबलाओं को दिया सहारा ,
जग में  उनका  मान बढ़ाया ।
गुरु, मात पिता  सत्कार दिया ,
दाऊ , सखा अति प्रेम किया ।
मैं - माया का भय भ्रम तोड़ा ,
अर्जुन को परम ज्ञानदिया  ।
दीनन के हरि दीन  दयाला ,
शरणागत  को   तारनहारा ।
हे नारायण !  विनय  सुनना ,
हम सब पर अपनी कृपा करना ।

हे गोविंद ! हे गोपाल !
हरे कृष्णा हरे हरे ! !
श्री राधे कृष्ण की जय !!


मीनाक्षी श्रीवास्तव
25-08-2016 

Wednesday, March 19, 2014

हाय नारी !

हाय नारी !


हाय ! नारी  क्या तेरी  -है,

यही कहानी ।


युगों–युगों से आज तक -है, 

लुटती अस्मिता तेरी ।


रिश्ते – नाते सारे- झूठे -हैं, 

करते तुझसे बेईमानी ।


कोई न जाने कोई न माने –है, 

तेरी  बेमिसाली ।


तेरे उद्गार तेरे समर्पण –की है, 

लगती बोली ।


हे नारी ! आज नहीं पर कल से-

तेरी सच में बदलेगी कहानी !


दूर नहीं वो दिन अब ज्यादा ,

जब ज्योति – ज्वाला बनेगी  !



मीनाक्षी श्रीवास्तव

वे दो ‘शब्द-शहद’ रस उनके …!

वे दो शब्द-शहद’ रस उनके .....!
*********************************

आंखे चार हुई, जब  उनसे ,
सुर्ख गुलाब हुई मैं, शर्म से.


वे दो शब्द-शहदरस उनके,
मेरे जीवन की शहनाई बने .


सुरभित हुआ जीवन ये अपना
नित  नया मधुमास     बना .


खिलते - उपवन को   हमने ,
बड़े - नेह से  सींचा - मिलके .


बसंत-बहार, सावन -   भादों ,
 मिलकर  बांटे  थे,  हम -दोनों .


अजब  बनाया जग में न्यारा ,
कुदरत ने ये - रिश्ता है  प्यारा  .


उस मालिकसे है, ये दुवा ,
विनती सुन लो ऐ मेरे खुदा !


बना  रहे ये - नेह  का  साया ,
जब तक मुझमें जीवन समाया .

__________


मीनाक्षी श्रीवास्तव


प्यारी बहू रानी !

बहू रानी !
—-——

दिल जो जीते ‘ सासू माँ ’ का
वो खुशनसीब बहू रानी होती ।
——
दुनिया की हर दौलत से बड़ी –
शुभाशीषों से  झोली  भरती ।
——
प्रियतम की प्राणों से प्यारी -
बनके सदा उनके दिल में रहती ।
——
कुल बढ़ाती – मान बढ़ाती ,
जग में यश कमाने वाली -
——
भाग्यशाली संतान वो पाती ।
‘सौभाग्यवती’ संस्कारों वाली-
——
अपनी छाप पीढ़ी को सौंपती -
प्रति-दिन वंदित होती रहती !
——



मीनाक्षी श्रीवास्तव

न जाने कौन ढूँढ़ेगा…..?


न जाने कौन ढूँढ़ेगा…..




न जाने-जमाने को लगी कौन सी ऐसी हवा है,
क्यों अब किसी के लिये कोई भी नहीं सगा है .
..

न बदली में वो छटा है न हवा में वो सबा है .
न परवाने में वो दम है न शम्मा होती फना है.
..

मन में कोई ज़ुबां में कोई फरियाद में कोई और है,
ख्वाब नहीं, हक़ीकत है यह, बस राज़ की बात है .
..

न शानो – शुबा माँ के ममता भरे आँचल की .
न बागवां – चमन का न आबो हवा वतन की .
..

न रौनक़ महफिलों में न मंज़िल मेहनतकशों की,
न जाने कौन ढूँढ़ेगा दवा 
कोई इस बदले ज़माने की !
..




मीनाक्षी श्रीवास्तव

Wednesday, January 15, 2014

ताउम्र दुआ किया करते हैं ...

ताउम्र दुआ किया करते हैं ....



कुछ उनकी खूबसूरती पे दिलों जान से मरा करते हैं ,
कुछ   नेह  से सदा  उनका  माथा  चूमा करते हैं .

कुछ  दूर से  देख  उन्हें ,  आहें   भरा  करते  हैं ,
कुछ छिपा के डायरी में उनकी तस्वीर रखा करते  हैं ।.

कुछ  उनके  नाम  की  माला  जपा  करते  हैं ,
कुछ  उनके  नाम पे  मीनू गज़ल लिखा  करते  हैं ।

कुछ उनको चाँद समझ कर देख  लिया करते हैं , 
कुछ उन्हें  पुष्प  मान  अहसास किया  करते हैं ।

कुछ  नैनों में  बसा  उनके स्वप्न  देखा करते हैं ,
कुछ वे  जो  उन  पर  किताब लिखा  करते हैं ।

कुछ  उन्हें  दिल में बसा  दूर  ही  रहा करते  हैं ,
कुछ उनकी शान से चर्चा ए-आम किया करते  हैं ।

कुछ उनका नाम शमां से जोड़ लिया करते हैं,
कुछ उनके नाम पे हर रोज़ ज़ाम पिया करते हैं ।

 कुछ उनके कदमों के निशां पे चला करते हैं ,
कुछ अपनी रूह  में  उन्हें  बसाया करते हैं ।
 

कुछ उन्हें  अपना कर  सम्मान दिया  करते  हैं ,
कुछ उनकी सलामती की ताउम्र दुवा किया करते हैं ।


मीनाक्षी श्रीवास्तव

15/ 01/ 2014







हर आलिंगन को मत देखो !


आलिंगन  

-----------------


हर आलिंगन को मत देखो ,
तुम नापाक़ निगाहों से ,
माँ की ममता-पिता की वात्सल्यता ,
सहोदरता और स्नेह सखापन ,
सब झलकता आलिंगन से ।
सब दिख जाता आलिंगन से ।

*-------*---------*------*

आनंद और अनुराग  कभी -
स्वागत अभिनन्दन कभी ,
मिलन बिदाई भी कभी
अकसर औपचारिकता ही सही
सब झलकता आलिंगन से ।
सब दिख जाता आलिंगन से ।

*-------*---------*------*



मीनाक्षी श्रीवास्तव