Wednesday, January 15, 2014

हर आलिंगन को मत देखो !


आलिंगन  

-----------------


हर आलिंगन को मत देखो ,
तुम नापाक़ निगाहों से ,
माँ की ममता-पिता की वात्सल्यता ,
सहोदरता और स्नेह सखापन ,
सब झलकता आलिंगन से ।
सब दिख जाता आलिंगन से ।

*-------*---------*------*

आनंद और अनुराग  कभी -
स्वागत अभिनन्दन कभी ,
मिलन बिदाई भी कभी
अकसर औपचारिकता ही सही
सब झलकता आलिंगन से ।
सब दिख जाता आलिंगन से ।

*-------*---------*------*



मीनाक्षी श्रीवास्तव

4 comments:

  1. Replies
    1. धन्यवाद मोनिका जी Q

      Delete
    2. धन्यवाद मोनिका जी Q

      Delete
  2. धन्यवाद मोनिका जी.

    ReplyDelete

welcome in my blog.plz write your good comments to incourage me.thanks.